*भाजयुमो प्रदेश प्रतिनिधि अरविंद तिवारी महतौल को जान का खतरा: गोली चलाने वाले आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर, जान से मारने की धमकी*

*!!.भाजयुमो प्रदेश प्रतिनिधि अरविंद तिवारी महतौल को जान का खतरा: गोली चलाने वाले आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर, जान से मारने की धमकी.!!*
*पंकज पाराशर छतरपुर*
बुंदेलखंड के दिग्गज युवा नेता, भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश प्रतिनिधि अरविंद तिवारी महतौल को लगातार जान का खतरा है, उन पर गोली चलाने वाले अपराधी पुलिस की गिरफ्त से दूर, 307 जैसी संगीन धाराओं का अपराधी नीरज माफीदार  पुलिस से लिंक फंसाकर एफआईआर से नाम कटवाने की फिराक में।आपको बता दें कि बीते हप्ते यानी  कुछ दिवस पूर्व अरविंद तिवारी अपने आदर्श नगर चौबे कॉलोनी के निवास पर खड़ा था तब वहां सफेद मोटरसाइकिल से अंकित माफीदार, नीरज माफीदार एवं एक अन्य मुंह पर तोलिया बांधे आया था, जिसने अवैध गैर लाइसेंसी बंदूक( कट्टे) से फायर किया था जिससे अरविंद तिवारी बाल बाल बचे थे एवं गोली चलने की आवाज सुनते ही लोगों के इकठ्टा होने पर अपराधी भाग खड़े हुए थे,
 "मीडिया में भी यह गोलीकांड सुर्खियों में रहा था की भूतपूर्व वरिष्ठ भाजपा नेता महेश महतोल के छतरपुर निवास पर चली गोली"
 बीते दिवस 7 अप्रैल की यह घटना झकझोर देने वाली थी हालांकि सिविल लाइन थाना टीआई विनायक शुक्ला ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अपराधियों के खिलाफ तुरंत एफ आई आर दर्ज की थी, किंतु हफ्ते बीत जाने के बाद भी अपराधियों का पुलिस गिरफ्त से दूर होना पुलिस की मंशा पर संदेह उत्पन्न कर रहा है, बीते रोज अंकित माफीदार अदालत के माध्यम से पेश हुआ है लेकिन सूत्रों की माने तो नीरज माफीदार पुलिस के वरिष्ठ व आला अधिकारियों से संपर्क करने में लगा हुआ है ताकि एआईआर से अपना नाम कटवा सके।
वहीं मुंह पर तोलिया बांधे एक अन्य अज्ञात आरोपी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है, वहीं अरविंद तिवारी का कहना है कि यहां-वहां से धमकियां आ रही हैं कि अगर एआईआर वापस नहीं लोगे तो तुम्हारे परिवार वालों को एवं तुम को जान से मार देंगे इसके बाद फरियादी द्वारा पुलिस अधीक्षक छतरपुर को इस बारे में आवेदन के माध्यम से अवगत करवाया जा चुका है, उसके बावजूद भी अपराधियों का पुलिस गिरफ्त से दूर होना, पुलिस की भूमिका संदेह  खड़ा हो रहा है, वहीं  आदतन अपराधी प्रवृत्ति नीरज माफीदार एवं अन्य द्वारा अगर अरविंद तिवारी के परिवार पर कोई हमला किया तो इसका जिम्मेदार कौन होगा,
कहीं ना कहीं इस संगीन मामले में पुलिस अधीक्षक का हस्तक्षेप आवश्यक है एवं अपराधियों को शीघ्र सलाखों के पीछे भेजने का कार्य करना चाहिए नहीं तो कहीं ना कहीं अप्रिय घटना घटने की संभावना है बन रही है। तथा फरियादी के परिवार में डर एवं भय के कारण जीना मुहाल हो गया है।


Popular posts
पूर्व जिलाध्यक्ष हेमेंद्र गौतम को मिला वरेली मण्डल मुख्य सेक्टर प्रभारी का पार्टी में दायित्व,
Image
कानपुर मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिस के वीर जवानों को सपाईयों ने भावभीनी श्रद्धांजलि की अर्पित
Image
डॉ राकेश प्रजापति (प्रदेश सचिव समाजवादी पिछड़ा वर्ग) के आवास पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का जन्मदिन शालीनतापूर्वक मनाया गया
Image
प्रशासनिक उदासीनता और सम्वन्धित विभाग की लापरवाही के कारण नमूना वनकर रह गया है इंडिया मार्का हैंडपम्प|-रिपोर्ट शिबेन्द्र यादव बिनावर
Image
*जिला पंचायत सदस्य ममता शाक्य के निर्देशानुसार आज चन्द्र शेखर उर्फ टिंकू शाक्य ने पर्यावरण दिवस मनाया*
Image